प्राचीन भारत में पेड़ों की एहमियत 

प्राचीन भारत में पेड़ों की एहमियत 

क्या आपको पता है कि भारत में सबसे पुराना चित्रित पेड़ पीपल है? मोहेंजो -दारो से मिली 4500 साल पुरानी सील में पीपल को रचना का पेड़ बताया गया है। इसमें कोई शक़ नही कि प्राचीन समय से भारतीय महाद्वीप में वृक्षों का आध्यात्मिक महत्व रहा है। कहा जा सकता है कि पेड़ों की पूजा यहां धर्म का सबसे पुराना रुप है।

मोहेंजो-दारो से मिली 4500 पुरानी सील   | विकिमीडिया कॉमन्स 

वेदों और पुराणों में स्पष्ट रुप से कहा गया है कि पेड़ों में भी प्राण होते हैं और उन्हें ‘वनस्पती’ या वन देवता कहा गया है। प्राचीन काल में भी लोगों के लिए पेड़ों का सामाजिक-आर्थिक और स्वास्थ संबंधी महत्व था। टिंबर और टीक का इस्तेमाल जहां पानी के जहाज़ बनाने में होता था वहीं तुलसी तथा नीम का औषधि के रुप में प्रयोग होता था। बरगद और मैंग्रोव का पर्यावरण की दृष्टि से महत्व था जबकि अन्य पेड़ आहार के रुप में इस्तेमाल होते थे।

हिंदु धर्म में पेड़ों का संबंध कई देवी-देवताओं से है। एक किवदंती के अनुसार एक बार शिव और पार्वती अंतरंग समय बिता रहे थे तभी अग्नि देवता बिना आज्ञा के अचानक अंदर आ गए। लेकिन शिव ने जब इस पर कुछ नहीं कहा तो पार्वती नाराज़ हो गईं और सभी देवताओं को पृथ्वी पर पेड़ का रुप धारण करने का श्राप दे दिया। श्राप से डरकर देवता पार्वती के पास पहुंचे और कहा कि अगर वे सभी पेड़ बन गए तो असुर शक्तिशाली हो जाएंगे। चूंकि श्राप वापस नहीं लिया जा सकता था, पार्वती ने कहा कि उनका भले ही पूरी तरह पेड़ का रुप न हो लेकिन वे कुछ हद तक पेड़ के अंदर रहेंगे।

इस कथा से लोगों की इस आस्था को बल मिलता है कि इंसान की तरह पेड़ों में भी आत्मा होती है और इनमें आत्माओं का निवास होता है जिनकी वजह से वर्षा तथा धूप खिलती है। ये आत्माएं महिलाओं को वंश बढ़ाने का आशीर्वाद देती हैं और इन्हीं की वजह से फ़सल की पैदावार होती है तथा पालतू मवेशियों की संख्या बढ़ती है। पुराणों के अनुसार कमल विष्णु की नाभी से निकला था, पीपल सूर्य से पैदा हुआ और पार्वती की हथेली से इमली का पेड़ निकला था।

बोधि वृक्ष  | विकिमीडिया कॉमन्स 

बहरहाल, कुछ पेड़ ऐसे भी हैं जिन्हें पवित्र माना जाता है। इनमें सबसे ज़्यादा पवित्र पीपल को माना जाता है जिसे संस्कृत में ‘अश्वत्थ’ कहा जाता है। नचिकेता को शिक्षा देते समय यम ने अश्वत्थ को एक ऐसा वृक्ष बताया जिसकी जड़े ऊपर और टहनियां नीचे की तरफ होती हैं। ये वृक्ष अमर ब्राह्मण है जिसके भीतर सारा जग समाहित है और जिसके इतर कुछ भी नही है। इसे बोधी वृक्ष भी कहा जाता है जिसके नीचे बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था। बौद्ध कविता महावासमा के अनुसार जिस वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था, बरसों बाद अशोक ने उसकी एक शाखा को कटवाकर सोने के गुलदान में लगवाया था। इसके बाद वह शाखा को लेकर पर्वतों पर गए और गंगा से होते हुए बंगाल की खाड़ी गए। बंगाल की खाड़ी में उनकी बेटी इसे लेकर श्रीलंका गईं और राजा को इसे भेंट किया।

अशोक वृक्ष का संबंध काम देवी से है। संस्कृत में अशोक का अर्थ दुख रहित होता है या ऐसा व्यक्ति जो किसी को दुख नही देता। रामाय़ण में रावण द्वारा हरण के बाद सीता को अशोक वृक्ष के नीचे रखा गया था।

बरगद का पेड़ शिव, विष्णु और ब्रह्मा का प्रतीक है। ज़्यादातर लोगों का विश्वास है कि बरगद जीवन और उर्वरता का सूचक है। दिलचस्प बात ये है कि भारत आए कई विदेशी सैलानियों ने इस वृक्ष का ज़िक्र किया है। उन्होंने लिखा है कि बनिये इस पेड़ के नीचे बैठकर व्यापार करते है। सदियों तक गांव में बरगद के पेड़ के नीचे बैठक हुआ करती थी। 1050 में भारत का राष्ट्रीय वृक्ष घोषित किया था।

इसी तरह तुलसी को भी पवित्र माना जाता है। हिंदु इसे तुलसी/वृंदा देवी का सांसारिक रुप मानते हैं। उसे लक्ष्मी का अवतार कहते है और इस तरह वह भगवान की पत्नी हुईं।

उत्तर प्रदेश के शहर वृंदावन का नाम तुलसी से लिया गया है

बेल के पेड़ का संबंध भगवान शिव से है। इसके तिकोन पत्ते भगवान के तीन कार्यों को दर्शाते हैं- रचना, संरक्षण और विनाश। ये पत्ते शिव की तीन आंखों को भी दर्शाते हैं।

वृक्ष-पूजा से वृक्षवाटिकाओं की उत्पत्ति हुई। गांव को लोग वनों की रक्षा करते थे और उनका मानना था कि वन में भगवान निवास करते हैं। इस विश्वास या अंधविश्वास की वजह से चाहे अनचाहे पारिस्थितिक चेतना पैदा हो गई। इसका सबसे अच्छा उदाहरण है राजस्थान में जोधपुर के गांव खेकारली में विश्नोई का बलिदान। 1730 में जोधपुर के सासक महाराजा अभय सिंह ने अपने नये क़िले के निर्माण के लिए भेड़ को भूनने के उद्देश्य से गांव के खेजड़ी पेड़ों को काटने का आदेश दिया था। पेड़ काटने के लिए महाराजा के मंत्री गिरधारी भंडारी के नेतृत्व में एक दल गांव पहुंचा। लेकिन अमृता देवी नाम की एक स्थानीय महिला ने इसका विरोध किया। उसने कहा, “सिर की क़ीमत पर भी अगर एक पेड़ बच सकता है तो ये बलिदान सार्थक है।”

विकिमीडिया कॉमन्स

अमृता देवी और उनकी तीन बेटियां पेड़ को कटने से रोकने के लिए पेड़ों से लिपट गईं। ये ख़बर फ़ैलते ही विश्नोई समाज के लोग भी वहां जमा होकर पेड़ से लिपट गए। इस विरोध में करीब 363 विश्नोई पुरुष, महिलाओं और बच्चों की जानें चली गईं क्योंकि पेड़ों के साथ उन्हें भी काट डाला गया। महाराजा को जब ये ख़बर मिली तो उन्हें बहुत पछतावा हुआ और उन्होंने उनके अधिकारियों की ग़लती के लिए माफी मांगी। इसके बाद उन्होंने शाही फ़रमान जारी कर हरेभरे पेड़ों को काटने और विश्नोई गांवों के आसपास शिकार पर रोक लगा दी।

ये बलिदान 70 के दशक में हुए चिपको आंदोलन की प्रेरणा बना था। लेकिन पेड़ और प्रकृति बचाने के मामले में हमें अभी और लंबा सफ़र तय करना है। आदिम समय में भारतीय लोग आग, घर, भोजन, कपड़े और हथियारों के लिए पेड़ों का इस्तेमाल करते थे लेकिन उन्हें पेड़ों की एहमियत का भी अंदाज़ा था। इस मामले में वे भगवान की तरह थे। लेकिन क्या आपको लगता है कि आज हम एक ऐसी परंपरा को भूलते जा रहे हैं जो हमारी प्रकृति के लिए घातक है?

हम आपसे सुनने को उत्सुक हैं!

लिव हिस्ट्री इंडिया इस देश की अनमोल धरोहर की यादों को ताज़ा करने का एक प्रयत्न हैं। हम आपके विचारों और सुझावों का स्वागत करते हैं। हमारे साथ किसी भी तरह से जुड़े रहने के लिए यहाँ संपर्क कीजिये: contactus@livehistoryindia.com

आप यह भी पढ़ सकते हैं
Ad Banner
close

Subscribe to our
Free Newsletter!

Join our mailing list to receive the latest news and updates from our team.